International Journal of Advanced Research and Development


ISSN: 2455-4030

Vol. 3, Issue 1 (2018)

भारतीय लोकतंत्र में सुशासन हेतु भ्रष्टाचार निवारण अपरिहार्य - एक विधिक अध्ययन

Author(s): डाॅ. मन्जूर अहमद मन्सूरी
Abstract: भ्रष्टाचार एक ऐसी समस्या जिसमें सभी सरकारों को विकास के प्रत्येक चरण पर सामना करना पड़ रहा है। इसका प्रत्यक्ष प्रभाव आर्थिक एवं सामाजिक विकास की गति के दर पर पड़ता है। अध्ययनों एवं लोक सर्वेक्षणों में यह साबित किया है कि भारत में सरकार द्वारा उठाये गये अनेक कदमों के बावजूद अभी भी भ्रष्टावार बना हुआ है। इस समस्या के निवारण हेतु भ्रष्टाचार के मूल कारणों को समझकर नीति निर्धारण किया जाना आवश्यक है।
Pages: 402-404  |  909 Views  510 Downloads
library subscription